अन्नदाता के साथ जमीनी लड़ाई लड़ेगी “आम आदमी पार्टी” जिला उपाध्यक्ष नीरज राय

बिप्लब कुण्डू पखांजुर

पखांजूर…अन्नदाता किसान के साथ अब आम आदमी पार्टी भी लड़ाई लड़ेगी उनके हक़ के लिए । जहा एक तरफ किसानों को हम अन्नदाता मानते है लेकिन वही दूसरी तरफ किसानों के साथ सरकार भी नाइंसाफी करते नजर आती है ।
जिला उपाध्यक्ष नीरज राय ने सीधा भूपेश बघेल सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि अभी तीन सालों में किसानों की जो उर्वरक खाद की किल्लतो से जूझना पड़ रहा है शायद पहले कभी ऐसा नहीं हुआ है । पहले पखांजूर स्थित मार्केटिंग सोसायटी में खाद भरपूर मात्रा में उपलब्ध कराया जाता रहा लेकिन विगत कई वर्षों से जो किसान अपना ऋण पुस्तिका से लोन लेकर खेती करना चाहते है उन तक भी खाद मिलना मुश्किल होता है । अधिकारियों से बातचीत करने पर जानकारी दिया जाता है कि खाद नहीं मिल रहा वहीं दूसरी ओर बड़े कीटनाशक,उर्वरक विक्रेताओं के पास खाद की कोई किल्लत नहीं होती, बात यही खतम नहीं होती वहा भी किसानों से सरकारी दर से दुगुनी राशि वसूला जाता है । कृषि विभाग में शिकायत करने पर कोई संतुष्टि जनक जवाब नहीं मिलता वहीं किसानों को समझाइश दिया जाता है कि दुकान पर कार्यवाही कर दे तो आप लोग को खाद कहा से मिल पाएगा खेत मे क्या डालोगे आप।
वहीं दूसरी ओर अभी सीज़न के शुरवाती समय से आखिर तक जो छोटे कीटनाशक, उर्वरक विक्रेताओं पर कागज़ी कार्यवाही पूरा न होना को लेकर उन पर नकेल कसने की पूर्ण तैयारी कृषि विभाग की ओर से रहती है कई छोटे कीटनाशक उर्वरक विक्रेताओं की दुकानें नियम के विरुद्ध बताकर कुछ दिनों तक बंद करवाया जाता है साथ ही कुछ दिनों बाद एक मोटा रकम अपराध शुल्क के नाम पर लेने के पश्चात दुकान खोलने की अनुमति दी जाती है। ठीक दूसरी ओर बड़े कीटनाशक उर्वरक विक्रेताओं पर कोई कागज़ी कार्यवाही नहीं उन्हें कभी किसी कमी को न गिनाते हुए आखिर मेहरबान क्यू होती है विभाग । कृषि विभाग द्वारा कई गलतियां दिखाई जाती है छोटे कीटनाशक उर्वरक विक्रेताओं को आखिर उन तक सभी प्रकार की विक्रय वस्तु भी वही बड़े विक्रेताओं के पास से ही आती है जिस पर कृषि विभाग मेहरबानी दिखाती है।
आखिर इन सब कारणों से नुकसान किसानों को उठाना पड़ता है। आखिर कब तक सोए रहेगी शासन के लोग ।
इस साल यूरिया की आपूर्ति बढ़ाने की मांग कृषि का मौसम आने के साथ ही हर जिले में खाद का संकट गहराने लगा है।
नीरज राय ने कहा कि कांग्रेस सरकार का कहना है कि डी ए पी, और सुपर फास्फेट का पर्याप्त भंडारण है वहीं प्रदेश कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे हास्यास्पद बयान देते है कि प्रदेश में खाद का संकट रूस,यूक्रेन युद्ध की वजह से है लेकिन यूरिया की कमी बनी हुई है जिसमे प्रदेश सरकार की झूट सामने आ रही हैं।
नीरज राय ने यह भी कहा कि संबंधित सभी अधिकारी व शासन सभी अन्नदाता किसान भाइयों की सभी खाद की सुविधा मुहैया कराए अन्यथा ” आम आदमी पार्टी” अब अन्नदाता के साथ सड़क की लड़ाई अंत तक लड़ेगी।

Live Cricket Live Share Market

विडिओ  न्यूज जरूर देखे 

[elfsight_youtube_gallery id="3"]

जवाब जरूर दे 

आप अपने सहर के वर्तमान बिधायक के कार्यों से कितना संतुष्ट है ?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button
Close