पखांजूर को जिला घोषित करने माँग विफल रहा ,मुख्यमंत्री के द्वारा घोषणा नहीं किया गया तो क्षेत्र के जनता नाखुश –श्रीनिवास पाल

बिप्लब कुण्डू पखांजुर

पखांजूर..;–मुख्यमंत्री छत्तीसगढ़ शासन रायपुर का जन चौपाल कार्यक्रम पखांजूर में दिनांक 4 जून 2022 को हुआ है ।क्षेत्र के लोगो का दीर्घकालीन मांग पखांजूर को जिला घोषित करने जो माँग निष्फल रहा
छत्तीसगढ़ बंगाली समाज के प्रदेश प्रबंधन कमेटी के नेतृत्व में दिनांक- 26 जनवरी 2022, स्थानीय सर्किट हाउस जगदलपुर में प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल , छत्तीसगढ़ शासन ,रायपुर से सौजन्य भेंट कर छत्तीसगढ़ बंगाली समाज के प्रदेश अध्यक्ष श्रीनिवास पाल के नेतृत्व में प्रदेश महासचिव नारायण दास , पूर्व प्रदेश कोषाध्यक्ष नवजीत हलदार ,समाज के सदस्य राजेश शाह अनिमा अधिकारी प्रदेश अध्यक्ष श्रीनिवास पाल के नेतृत्व में पखांजूर को जिला घोषित करने के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को दिनांक- 26 जनवरी 2022 ,सर्किट हाउस जगदलपुर में सौजन्य से भेंट कर मांग पत्र सौंपा गया था, की पखांजूर को जिला घोषित किया जाए जोकि वर्ष- 2015 से दीर्घकालीन मांग है मांग को पूरा किया जाए स्थानीय सर्किट हाउस जगदलपुर में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रतिनिधिमंडल को आश्वासन दिए थे, विचार करेंगे ,किंतु दिनांक- 4 जून 2022 को छत्तीसगढ़ शासन के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के जन चौपाल कार्यक्रम पखांजूर में हुआ कार्यक्रम के दौरान पखांजूर को जिला घोषित नहीं किए जाने पर पखांजूर तहसील क्षेत्र के निवासियों में निराशा हाथ लगा है।

प्रदेश अध्यक्ष श्रीनिवास पाल छत्तीसगढ़ बंगाली समाज कहां है ,कि हाल ही में राजनांदगांव जिला मे नवीन दो टुकड़ा नया जिला बन गया है ,राजनांदगांव जिले से काटकर मानपुर जिला बनाया गया ,हाल ही में खैरागढ़ कांग्रेस की जीत होने के बाद खैरागढ़ को जिला बनाया गया, लेकिन छत्तीसगढ़ राज्य का मिनी बंगाल कहां जाने वाला पखांजूर तहसील क्षेत्र को जिला घोषित ना करना बड़ी दुख की बात है। पखांजूर तहसील क्षेत्र में कुल 133 बंगाली ग्राम है ,इसके अलावा अनुसूचित जनजाति /अनुसूचित जाति/ पिछड़ा वर्ग समुदाय/ सामान्य वर्ग के समुदाय/ मारवाड़ी समाज /पंजाबी समाज और भी अन्य समाज के लोग पखांजूर तहसील में निवासरत है। पखांजूर तहसील से लगभग 200 किलोमीटर की दूरी कांकेर जिला मुख्यालय में जाना पड़ता है। समस्त सामाजिक संस्थाओं का पूर्व से मांग रहा है ,कि पखांजूर जिला घोषित किया जाए ,किंतु मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के 4 जून2022 पखांजूर जन चौपाल के दौरान समस्त सामाजिक संस्थाओं को निराशा हाथ लगा है । हमें बड़ी दुख और खेद व्यक्त करना पड़ रहा है, की दीर्घकालीन मांग पखांजूर को जिला घोषित करना न्याय संगत है ,पखांजूर तहसील को मिनी बंगाल भी कहा जाता है ,अंतागढ़ विधानसभा एवं कांकेर लोकसभा बंगाली मतदाताओं की भूमिका अहम रहती है, हमें बड़ी खेद से प्रेस विज्ञप्ति के जरिए सूचना देना पड़ रहा है ,कि समस्त सामाजिक संस्थाओं के जिला प्रमुख/ ब्लाक प्रमुख पदाधिकारियों को मुख्यमंत्री के जन चौपाल पखांजूर में कार्यक्रम मे दिनांक 4 जून 2022 को बोलने का मौका दिया जाना था ,किंतु छत्तीसगढ़ बंगाली समाज की ओर से जिला अध्यक्ष संजीत मिस्त्री एवं पखांजूर कोयलीबेड़ा ब्लॉक अध्यक्ष पंकज घोष छत्तीसगढ़ बंगाली समाज कांकेर जिला के प्रदेश उपाध्यक्ष वासुदेव दास बांदे क्षेत्र से छत्तीसगढ़ बंगाली समाज के सामाजिक कार्यकर्ता प्रमुखों को जन चौपाल कार्यक्रम में बोलने का मौका नहीं दिया है, बड़ी दुख की बात है।

पखांजूर को जिला यदी घोषित नहीं किया गया तो ,आने वाले चुनाव में समस्त सामाजिक कार्यकर्ता चुनावी परिणाम का उत्तर देंगे।

Live Cricket Live Share Market

विडिओ  न्यूज जरूर देखे 

[elfsight_youtube_gallery id="3"]

जवाब जरूर दे 

आप अपने सहर के वर्तमान बिधायक के कार्यों से कितना संतुष्ट है ?

View Results

Loading ... Loading ...

Related Articles

Back to top button
Close